Dream shayari : Khawab Shayari – Sapna shayari

Dream shayari, Khawab Shayari, Sapna shayari, Dream Status, Shayari on Sapna, Dream Hindi shayari, Shayari on Dream, Sapna Shayari in Hindi, Shayari on Khawab, सपना शायरी, ख्वाब शायरी, ड्रीम शायरी, ख्वाब की शायरी, अधूरे ख्वाब शायरी, Hindi Dream Shayari

Dream shayari

Dream shayari

MAINE DEKHA HAI BAHARO MEIN CHAMAN KO JALTE
HAI KOI KHWAAB KI TABEER BATAANE WALA
मैंने देखा है बहारों में चमन को जलते,
है कोई ख्वाब की ताबीर बताने वाला?

Dream shayari


YEH KYA JAGAH HAI DOSTO YE KAUN SA DAYAAR HAI,
HAD-E-NIGAAH TAK JAHAN GUBAAR HI GUBAAR HAI.
ये क्या जगह है दोस्तो ये कौन सा दयार है,
हद्द-ए-निगाह तक जहाँ ग़ुबार ही ग़ुबार है।

Khawab Shayari

MAUJON SE KHELNA TO SAGAR KA SHAUK HAI,
LAGTI HAI KITNI CHOT KINARO SE PUCCHIYE.
मौजों से खेलना तो सागर का शौक है,
लगती है कितनी चोट किनारों से पूछिये।


BAND MUTTHI SE JO UD JATI HAI KISMAT KI PARI,
ISS HATHELI MEIN KOI CHHED PURANA HOGA.
बंद मुट्ठी से जो उड़ जाती है क़िस्मत की परी,
इस हथेली में कोई छेद पुराना होगा।

Sapna shayari

HOGA GAJAB JO HASHAR MEIN JHAGDA HO JAYEGA,
MAANO KAHA KE BAAT ABHI GHAR KI GHAR MEIN HAI.
होगा गजब जो हशर में झगड़ा हो जायेगा,
मानो कहा कि बात अभी घर की घर में हैं।


KAL YEHI KHWAAB HAKIQAT MEIN BADAL JAYENGE,
AAJ JO KHWAAB FAQAT KHWAAB NAJAR AATE HAIN.
कल यही ख्वाब हकीकत में बदल जायेंगे,
आज जो ख्वाब फकत ख्वाब नजर आते हैं।

Dream Status

KAHNE KO LAFZ DO HAIN UMMID AUR HARSAT,
LEKIN NIHAAN ISI MEIN DUNIYA KI DAASTAN HAI.
कहने को लफ्ज दो हैं उम्मीद और हरसत,
लेकिन निहां इसी में दुनिया की दास्तां है।


EK SURAJ THA KE TAARO KE GHARANE SE UTHHA,
AANKH HAIRAN HAI KYA SHAKHS ZAMANE SE UTHHA.
एक सूरज था कि तारों के घराने से उठा,
आँख हैरान है क्या शख़्स ज़माने से उठा।

Shayari on Sapna

BARH KE TUFAAN KO AAGOSH MEIN LE LE APNI,
DUBNE WALE TERE HAATH SE SAAHIL TOH GAYA.
बढ़ के तूफ़ान को आग़ोश में ले ले अपनी,
डूबने वाले तेरे हाथ से साहिल तो गया।


KHUDA GAWAH HAI DONO HAIN DUSHMANE-PARWAJ,
GAME-KAFAS HO YA RAHAT HO AASHIYANE KI.
खुदा गवाह है दोनों है दुश्मने-परवाज,
गमे-कफस हो या राहत हो आशियाने की

Dream Hindi shayari

DIN KI ROSHNI KHWABON KO BANANE MEIN GUJAR GAYI,
RAAT KI NEEND BACHCHE KO SULANE MEIN GUJAR GAYI,
JIS GHAR MEIN MERE NAAM KI TAKHTI BHI NAHI HAI,
SAARI UMAR USS GHAR KO BANANE MEIN GUJAR GAYI.


दिन की रोशनी ख्वाबों को सजाने में गुजर गई,
रात की नींद बच्चे को सुलाने मे गुजर गई,
जिस घर मे मेरे नाम की तखती भी नहीं,
सारी उमर उस घर को बनाने में गुजर गई


Read More – Sad Shayari

Read More – Dard Shayari