Gum Bhari Shayari

Gum Shayari, गम शायरी, Gum Bhari Shayari, Dukh Bhari Shayari, Gum Ki Shayari, Gum Pe Shayari, gum shayari image, gum shayari download, gum shayari wallpapers, gum bhari shayari, gam shayari hindi me, shayari gam ki, gam ki shayari hindi me

Gum Bhari Shayari

Gum Bhari Shayari

Tu Naraaj Na Raha Kar Tujhe Wasta Hai Khuda Ka,
Ek Tera Chehra Dekh Hum Apna Gham Bhulate Hain.
तू नाराज न रहा कर तुझे वास्ता है खुदा का,
एक तेरा चेहरा देख हम अपना गम भुलाते है।

Gum Shayari

Tere Haath Se Mere Haath Tak Ka Jo Fasla Tha,
Use Naapte Use KaatTe Meri Saari Umr Gujar Gayi.
तेरे हाथ से मेरे हाथ तक का जो फासला था,
उसे नापते उसे काटते मेरी सारी उमर गुजर गयी।

gum shayari image

Ab Tu Hi Koi Mere Gham Ka ilaaj Kar De,
Tera Gham Hai Tere Kehne Se Chala Jayega.
अब तू ही कोई मेरे ग़म का इलाज कर दे,
तेरा ग़म है तेरे कहने से चला जायेगा।

गम शायरी

Jab Tak Apne Dil Mein Unka Gham Raha,
Hasraton Ka Raat Din Maatam Raha,
Hijr Mein Dil Ka Na Tha Saathi Koi,
Dard Uthh-Uthh Kar Shareeke-Gham Raha.

जब तक अपने दिल में उनका गम रहा,
हसरतों का रात दिन मातम रहा,
हिज्र में दिल का ना था साथी कोई,
दर्द उठ-उठ कर शरीके-गम रहा।

Gum Bhari Shayari

Gum Shayari

Gum Shayari

Rakhe Hain Dil Mein Humne Bade Ehatraam Se,
Jo Gham Diye Hain Tumne Mohabbat Ke Naam Se.
रखे हैं दिल में हमने बड़े एहतराम से,
जो ग़म दिए हैं तुमने मोहब्बत के नाम से।

Gum Pe Shayari

Teri Zulfon Ki Syaahi Se Na Jaane Kaise,
Gham Ki Zulmat Meri Raaton Mein Chali Aayi Hai.
तेरी ज़ुल्फों की स्याही से न जाने कैसे,
ग़म की ज़ुल्मत मेरी रातों में चली आई है।

Gum Bhari Shayari

Gum Bhari Shayari

Itna Bhi Karam Unka Koi Kam Toh Nahi Hai,
Gham De Ke Puchhte Hain Koi Gham Toh Nahi Hai.
इतना भी करम उनका कोई कम तो नहीं है,
ग़म दे के वो पूछते हैं कोई ग़म तो नहीं है?

Dukh Bhari Shayari

TujhKo Pakar Bhi Na Kam Ho Saki Betabi Dil Ki,
Itna Aasaan Tere Ishq Ka Gham Tha Bhi Nahi.
तुझको पा कर भी न कम हो सकी बेताबी दिल की,
इतना आसान तेरे इश्क़ का ग़म था ही नहीं।

Gum Ki Shayari

Raha Yoon Hi NaMukammal Gham-e-Ishq Ka Fasana,
Kabhi Mujhko Neend Aayi Kabhi So Gaya Zamana.
रहा यूँ ही नामुकम्मल ग़म-ए-इश्क का फसाना,
कभी मुझको नींद आई कभी सो गया ज़माना।