Heart Broken Shayari : Dil Tutne Ki Shayari

शायरी पसन्द आये तो एक शेयर जरूर करे

Heart Broken Shayari, Toote Dil Ki Shayari, Tute Dil ki Shayari, हार्ट ब्रोकन शायरी, ब्रोकन हार्ट शायरी, टूटे दिल की शायरी, Heart Broken Shayari In Hindi, Hindi Heart Broken Shayari

Heart Broken Shayari

Heart Broken Shayari

अजीब दस्तूर है, मोहब्बत का,
रूठ कोई जाता है, टूट कोई जाता है.

Heart Broken Shayari

ऐसा करो, बिछड़ना है तो, रूह से निकल जाओ,
रही बात दिल की, उसे हम देख लेंगे.


फिर नही बसते वो दिल जो एक बार उजड् जाते है,
कब्रे जितनी भी सजा लो पर जिँदा कोई नही होता.


गिरा दे जितना पानी है तेरे पास ऐ बादल,
ये प्यास किसी की लेने से बुझेगी तेरे बरसने से नहीं.


धोखा देती है शरीफ चेहरों की चमक अक्सर,
हर कांच का टूकड़ा हीरा नहीं होता.


जरा ठहर ऐ जिंदगी तुझे भी सुलझा दूंगा,
पहले उसे तो मना लूं जिसकी वजह से तू उलझी है.


हाथ की नब्ज़ काट बैठा हूँ,
शायद तुम दिल से निकल जाओ ख़ून के ज़रिये.


हम तुम्हें मुफ़्त में जो मिले हैं,
क़दर ना करना हक़ है तुम्हारा.

Tute Dil ki Shayari

तकलीफें तो हज़ारों हैं इस ज़माने में,
बस कोई अपना नज़र अंदाज़ करे तो बर्दाश्त नहीं होता.


” इश्क में इसलिए भी धोखा खानें लगें हैं लोग
दिल की जगह जिस्म को चाहनें लगे हैं लोग..”


तेरी दुनिया का यह दस्तूर भी अजीब है ए खुदा,मोहब्बत उनको मिलती है, जिन्हें करनी नहीं आती.


तरसेगा जब दिल तुम्हारा, मेरी मुलाकात को,
ख्वाबों मे होंगे तुम्हारे हम, उसी रात को.


इस दुनिया मेँ अजनबी रहना ही ठीक है,
लोग बहुत तकलीफ देते है अक्सर अपना बना कर


दिल किसी से तब ही लगाना जब दिलों को पढ़ना सीख लो;
वरना हर एक चेहरे की फितरत में ईमानदारी नहीं होती.


इस दुनियाँ में सिर्फ बिना स्वार्थ के माँ बाप ही प्यार कर सकते हैं ..
दिल मेरा उसने ये कहकर वापस कर दिया… दुसरा दिजीए… ये तो टुटा हुआ है


कुछ रिश्ते मुनाफा नहीं देते, पर अमीर जरूर बना देते हैं.
शाम को थक कर टूटे झोपड़े में सो जाता है वो मजदूर, जो शहर में ऊंची इमारतें बनाता है

New Dil Tutne Ki Shayari

गठरी बाँध बैठा है अनाड़ी, साथ जो ले जाना था वो कमाया ही नहीं
मैं उस किस्मत का सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ, वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए


जिस घाव से खून नहीं निकलता, समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है..


मोहब्बत ज़िंदगी बदल देती है,मिल जाए तो भी ना मिले तो भी..


Mat puchh kaise guzar rahi hai zindagi,
Uss daur se guzar rahi hu jo guzarta hi nhi


शायरी पसन्द आये तो एक शेयर जरूर करे