Hindi Story : Story in Hindi – Stories in Hindi

Hindi Story, Story in Hindi, Stories in Hindi, Hindi Stories, Hindi Kahani, Kahani In Hindi, Kahaniya, Story, Kahani Hindi, Hindi Story

Hindi Story-Aaj Ki Kahani

Hindi Story-Aaj Ki Kahani

आज की कहानी : Aaj Ki Kahani

 इच्छा  : पति मुस्कुराता हुआ अपने मोबाइल पर फटाफट उँगलियां दौड़ा रहा था उसकी पत्नी बहुत देर से उसके पास बैठी खामोशी से देख रही थी, जो उसकी रोज़ की आदत हो गई थी और जब भी कोई बात अपने पति से करती तो जवाब ‘हाँ’ ‘हूँ’ में ही होता या नपे-तुले शब्दों में
“किससे चैटिंग कर रहे हो?”
“फेसबुक फ्रेंड से।”
“मिले हो कभी अपने इस फ़्रेण्ड से?”
“नहीं”
“फिर भी इतने मुस्कुराते हुए चैटिंग करते हो?”
“और क्या करूँ बताओ?”
“कुछ नहीं, फेसबुक पे आपकी महिला मित्र भी बहुत सी होंगी ना?”
“हूँ”
उँगलियों को हल्का -सा विराम दे मुस्कुराते हुए पति ने हुंकार भरी!
“उनसे भी यूहीं मुस्कुराते हुए चैटिंग करते हो, क्या आप सभी को भली-भांति जानते हो?”
पत्नी ने मासूमियत भरा प्रश्न पर प्रश्न किया!
“भली-भांति तो नहीं मगर रोजाना चैटिंग होते-होते बहुत कुछ हम आपस में एक दूसरे को जानने लगते हैं और बातें ऐसी होने लगती हैं कि मानो बरसों से जानते हो और मुस्कुराहट होठों पे आ ही जाती है, अपने -से लगने लग जाते हैं फिर ये!”
“हूँ और पास बैठे पराये -से!” पत्नी हुंकार सी भरने के बाद बुदबुदाई!
“अभी मजे़दार टॉपिक चल रहा है हमारे ग्रुप में! अरे, अभी तुमने क्या कहा था, ध्यान नहीं दे पाया! बोलो ना फिर से, अरे, यार किस सोच डूब गईं।”
पति मुस्कुराता हुआ तेज़ी से मोबाइल पर अपनी उँगलियाँ चलाता। हुआ एक नज़र पत्नी पे डाल बोला!
“किसी सोच में नहीं! सुनो, बस मेरी एक इच्छा पूरी करोगो?”
पत्नी टकटकी लगाए बोली!
“क्या अब तक तुम्हारी कोई अधूरी इच्छा रखी है मैंने? खैर, बोलो क्या चाहिए?”
“मेरा मतलब ये नहीं था, मेरी हर इच्छाएँ आपने पूरी की हैं मगर ये बहुत ही अहम है!”
“ऐसी बात तो बोलो क्या इच्छा

Tags:- Hindi Story, Story in Hindi, Stories in Hindi, Hindi Stories, Hindi Kahani, Kahani In Hindi, Kahaniya, Story, Kahani Hindi, Love Hindi Story, Sad Hindi Story, Love Story, Sad Story


Pyar Ki Kahani : प्यार की कहानी

आज अकस्मात् जब यूं ही फ़ोन के कॉन्टेक्ट्स चेक कर रहा था तभी अचानक तुम्हारे नाम पर मेरी थिरकती हुई उंगलियां रुक-सी गयीं दिल की धड़कनों के साथ… तुम्हारा नंबर आज भी सेव्ड है मेरे फ़ोन लिस्ट में, कभी-कभी देखकर दिल को सुकून से भरने देता हूँ…
तुम्हारी तस्वीरों को तो डिलीट कर दिया था मैंने… कमज़ोर कर रही थी मुझे, जकड़ रही थी मुझे तुम्हारी यादों में । दर्द बढ़ता ही जाता था तुम्हें सिर्फ तस्वीर में देखकर, तुम्हारा पास न होना बहुत कचोटता है मुझे

कल ही मैंने तुम्हारा फेसबुक टाइमलाइन चेक किया था ख़ुद से बचाकर, तुम्हारी हर पोस्ट के कमेंट्स पढे थे मैंने, न जाने कितनों ने तारीफ़ में न जाने क्या-क्या लिख़ रखा था… ग़ुरूर सा हो रहा था अपनी पसन्द पर; डर था तुम्हारे भोलेपन पर और जलन सी भी हो रही थी… मगर तसल्ली सी है की तुम्हारी आदत आज भी वैसी ही, ठीक वैसी जैसे पहले थी…. ”किसी को भाव नहीं देती तुम… किसी को भी नहीं
शायद याद हो तुम्हें लगभग दो साल पहले या यूं कहूं तो आने वाले साल में दो साल हो ही जाएंगे । मैं रात के आठ बजे ठिठुरते हुए सड़क से मेसेज करता था तुम्हें.. कभी बायां हाथ पॉकेट में तो कभी दायां, बड़ी ठण्ड थी उन दिनों… मैं ठीक से टाइप भी नहीं कर पा रहा था और तुम घर में बैठी मुझे लेट रिप्लाई दिया करती थी । मैं रात-रात भर ठण्ड में छत की सीढ़ियों पर बैठा तुमसे बातें करता था गिरती हुई ओस से जैसे दोस्ती हो गई थी मेरी ।

मैं रात भर जगा हूँ पहले तुम्हारे सोने के इंतज़ार में… जब तुम असाइनमेंट लिखा करती थी तब सुना है मैंने तुम्हारे पलटते हुए पन्ने की आवाज़ों को, उसपर चलती और घिसती हुई कलम को फिर तुम्हारे सो जाने के बाद तुम्हारी साँसे सुनी हैं मैंने, तुम्हारी करवटों को महसूस किया है, तुम्हारी चादर पर पड़ी सिलवटों को अपनी चादर पर डाल कर उससे तुम्हारे अक़्स बनाएं हैं मैंने… कभी फ़ोन नहीं काटा…………
फिर तुम्हारे उठने से पहले अपनी नींद से लड़कर तुमको मेसेज भी तो किया है ” Good Morning ” ताकि जब उठो तो सबसे पहले मेरा प्यार रहे तुम्हारे मोबाइल स्क्रीन पर । “चाय” बनाते वक़्त सिर और कंधे के बीच में फ़ोन रखकर तुमसे बातें की हैं की तुम्हें मेरी हैडफ़ोन से आती हुई शोरगुल से ऐतराज़ था

ख़ैर…. सोच रहा था तुम्हारा व्हाट्सप्प स्टेटस भी चेक कर लूं,लास्ट सीन भी चेक किये तो बहुत दिन हो गएं हैं,शायद तुम्हें याद नहीं होगा पिछली बार हमारी आखिरी बात भी इसी पर हुई थी मेरे लगातर मेसेज से तुम नाराज़ सी थी मगर अब तो खुश होगी ही तुम एक साल होने को हैं और मैंने तुम्हे तंग नहीं किया है और न कोई कोशिश की है…
तुम्हें समझ में नहीं आता,क्या बार-बार मेसेज करते रहते हो… कोई काम-वाम है या नहीं, कोई मतलब हो तभी मेसेज किया करो”
इस बार मैंने तुम्हें खुदको ब्लॉक करने का कोई मौका भी नहीं दिया, अपनी ख़ुद्दार मोहब्बत को और कितना ज़लील होने देता… कितना…. ?
अब मैं तुम्हें कैसे समझाउं की जो मतलब से होता है वो व्यापार होता है प्यार नहीं, मैंने तो बस प्यार का मतलब जाना है किसी मतलब से प्यार नहीं किया तुम्हें…..

तुम्हें कॉल नहीं करूंगा मैं… न ही तुमसे मिलने की कोई चाहत सी है, बस यूं ही आज तुम्हारे नाम का दीदार हुआ तो आँखों से दर्द सा कुछ रिसने लगा था… सो लिख़ दिया और ये भी किसी मेसेंजर के मेसेज की तरह क्रॉस-सर्किल में डाल दिया जाएगा, क्यों …ऐसा ही होगा न
(तुम्हारे लिए) आख़िरी बार अलविदा

Tags:- Hindi Story, Story in Hindi, Stories in Hindi, Hindi Stories, Hindi Kahani, Kahani In Hindi, Kahaniya, Story, Kahani Hindi, Love Hindi Story, Sad Hindi Story, Love Story, Sad Story


Heart Touching Story In Hindi

अमीर_कौन?
6 महीने के एक बच्चे की माँ ने फाइव स्टार होटल के मैनेजर से पूछा सर …! एक कप दूध मिलेगा क्या?
प्रबंधक “हाँ …! सौ रुपये में मिलेगा”
“ठीक है, दे दो …!” महिला ने कहा।।
पिकनिक के दौरान इस होटल में ठहरी थी __ अगली सुबह जब वे कार में जा रहे थे तो बच्चे को फिर भूख _लगी कार एक टूटी फूटी झोपड़ी वाली चाय की दुकान पर रोका गया _ बच्चे को दूध पिला कर उसकी भूख को शांत किया …

दूध के पैसे पूछने पर बूढ़ा दुकान मालिक बोला .. ” बेटी …! हम बच्चे के दूध के पैसे नहीं लेते, अगर रास्ते के लिए चाहिए तो अधिक दूध लेती जाओ _ “.. बच्चे की माँ के मन में एक सवाल बार बार घूम रहा था कि अमीर कौन? …
फाइव स्टार होटल वाला या टूटी झोपड़ी वाला??
मिला है जीवन किसी के काम आने के लिए
समय बीत रहा है कागज के टुकड़े कमाने में

क्या करोगे इतना रुपया पैसा कमा कर ??
न कफन में जेब है, ना कब्र में अलमारी !


सच्चा प्यार कभी भी और कहीं भी हो सकता है| प्यार एक ऐसा एहसास है, जो बिन कहे भी सब कुछ कह जाता है| जब किसी को प्यार होता है| तो वह यह नही सोचता की इसका अंत क्या होगा| और ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि वह इन्सान किसी के प्यार में इतना खो जाता है कि बस प्यार के अलावा उसे कुछ दिखाई नही देता है|” दोस्तों मैं आपको सच्चा प्यार करने वाले एक प्रेमी जोड़े की कहानी बताने जा रहा हूँ जो कि मुझे उम्मीद है आपके दिल छू जायेगी|

एक लड़का था| वह एक लड़की से बहुत प्यार करता था| वह उस लड़की के लिए कुछ भी कर सकता था| पर दिक्कत यह थी कि लड़का बहुत गरीब घर से था जबकि लड़की बहुत अमीर थी| और वहीँ दूसरी दिक्कत यह थी कि लड़का अलग जाति का था| इस वजह से दोनों के प्यार मे बहुत कठिनाई आ रही थी| वह लड़का उस लड़की से अक्सर पूछता है “क्या तुम मुझसे शादी करोगी?” लड़की जवाब देती है “मै तो तुमसे शादी करना चाहती हूँ, पर मेरे घर वाले कभी राजी नही होंगे और मै भाग कर शादी नहीं कर सकती हूँ| यह समाज बहुत बुरा है| हमें जीने नही देगा|” और लड़के उससे कहता है “ठीक है! जब मैं अपने पैरो पर खड़ा हो जाऊंगा तो तुम्हारे पापा से तुम्हारा हाथ मागूँगा|” लड़की हंसकर कहती है “शादी में क्या रखा है? क्या शादी के बाद मेरे दिल में तुम्हारा प्यार कम हो जायेगा?”|

यह सुनकर लड़का सोच में पड़ जाता है, मगर वह जैसे-तैसे हंसकर जवाब देता है “क्या तुम मुझे शादी के बाद भूल जाओगी?” इसपर लड़की का जवाब होता है “ऐसा कभी नही होगा और मेरी सांसे रुक सकती पर मेरा प्यार तुम्हारे लिए कम नही होगा|”
समय बीतता गया| कुछ समय बाद लड़क़ी के घर वाले उसके लिए लड़का देखने लगे| और सच्चाई जानने के बाद वह लड़का जो कि उस लड़की से बहुत प्यार करता था, वह उस लड़की के दिल में अपने लिए नफरत भरने लगा| वह जानबूझकर ऐसा करता था ताकि वह लड़की उससे बहुत नफरत करने लगे| और ठीक वैसा ही हुआ जैसा वह लड़का चाहता था| उस लड़के ने कुछ ऐसा किया, जिससे लड़की उससे नफरत करने लगी| उस लड़की की शादी किसी और से तय कर दी गई| पर वह अन्दर ही अन्दर बहुत दुखी थी| क्यूंकि वह लड़के को बिलकुल भी नहीं भुला पा रही थी|

जिस दिन उस लडकी की शादी थी उसी दिन उस लड़के ने उस लड़की की छोटी बहन को फोन किया और कहा “मै जो कुछ भी कहूँ, वह सब अपने फ़ोन में रिकॉर्ड कर लेना| जब तुम्हारी बड़ी बहन आए तो उसे यह रिकॉर्डिंग सुना देना| उस लड़की की शादी हो गयी और वह शादी के दो दिन बाद अपने घर आती है| उसकी बहन कहती है “दीदी आपको कुछ सुनाना है|” वह लड़की हंसकर कहती है “क्या? चल सुना!” जैसे ही वो फ़ोन चलाती है| उसमे से रोने की अवाज आती है, वह अपनी बहन से कहती है “ये आवाज तो हर्ष लग रही है|” छोटी बहन कहती है “दीदी जिस दिन आपकी शादी थी, उसी दिन आपके हर्ष का फोन आया था और बहुत रो रहा था| आप खुद ही सुनिए की वह क्या कह रहा था|”

फ़ोन की रिकॉर्डिंग चलाने पर हर्ष रो-रोकर कह रहा था “रीना मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ, और अपने जीते जी तुम्हारी शादी किसी और के साथ होते नही देख सकता हूँ| क्योकि मैंने तुमसे बहुत प्यार किया है और मै अब बस यही चाहता हूँ कि तुम अपनी जिन्दगी में आगे बढ़ो और खुश रहो| मैं तुम्हे कभी भूल नही सकता मेरी जान|” इतना कहकर फोन कट जाता है| हर्ष की यह बात सुनकर वह बहुत रोती है और अपनी बहन पर चिल्लाती है “तूने मुझे उसी दिन क्यों नहीं बताया जब फ़ोन आया था|” छोटी बहन जवाब देती है”मैं क्या करती, मैं तो कसमों के धागे मे बंधी थी| मै कर भी क्या सकती थी?” वह अपनी बहन को उसी नम्बर पर फोन लगाने के लिए कहती है जिससे हर्ष ने फ़ोन किया था|

छोटी बहन पूछती है “क्यों दीदी?” परन्तु वह छोटी बहन को बहुत गुस्से में डांट देती है और गुस्से मे कहती है “चल फोन लगा” वह जल्दी से फोन लगाती है| घण्टी जाती है, दूसरी तरफ फोन उठता है और उधर से आवाज आती है
“हेल्लो,
“हेल्लो, आंटी जी हर्ष कहाँ है?”
हर्ष की माँ रोने लगती और कहती है “बेटी हर्ष इस दुनिया मै नही रहा| वह चोंक जाती है| और पूछती है “आंटी यह सब कब हुआ और कैसे? हर्ष की माँ कहती है “पता नही मेरे हर्ष ने अपनी ज़िन्दगी को अपने आप से दूर कर डाला कसम खा ली किसी से शादी नहीं करूँगा
लड़की : “आंटी जी कब?”
हर्ष की माँ : “19 मार्च को|”
यह सब सुनकर वह लड़की फोन कट कर देती है|” पता है दोस्तों 19 मार्च क्या था? उसकी प्रेमिका रीना की शादी थी| यह सब सुनकर वह बहुत रोयी और रो-रोकर कहने लगी मैंने अपने हर्ष पर विश्वास क्यों नही किया| अगर मैं उसपर विश्वास कर लेती तो मेरा हर्ष इस तरह जिंदा होकर भी मुर्दा नहीं होता | “लोग मंजिल को मुश्किल समझते हैं|
बड़ा फर्क है लोगो में और हम में, लोग जिन्दगी को दोस्त, और हम दोस्त को जिन्दगी समझते हैं| दोस्तों विश्वास बहुत बड़ी चीज होती है| हमें अपनों पर भरोसा करना चाहिए| ताकि जो हर्ष के साथ हुआ वैसा किसी के साथ न हो| अगर प्यार करो तो निभाना भी चाहिए| क्यूंकि प्यार वह अहसास है, जो हमे जीने की वजह देता है| अगर इस दुनिया में प्यार नही तो कुछ भी नही| प्यार अमीरी-गरीबी देखकर नही होता है| प्यार तो कभी भी हो सकता है, इसलिए हमे अपने प्यार पर भरोसा होना चाहिए| क्यूंकि “सच्चा प्यार बहुत मुश्किल से मिलता है|
लेकिन आजकल के लोग बस मजाक करते है प्यार नहीं

Tags:- Hindi Story, Story in Hindi, Stories in Hindi, Hindi Stories, Hindi Kahani, Kahani In Hindi, Kahaniya, Story, Kahani Hindi, Love Hindi Story, Sad Hindi Story, Love Story, Sad Story


Love Letter In Hindi

इतना Sweet Love Letter” कभी नई पढ़ा होगा
वेलेंटाइन पर मंगरु का लिखा खत
मेरी करेजा”…?
वेलेंटाइन बाबा के कसम ई लभ लेटर मैं डेहरी पर चढ़कर लिख रहा हूँ
डीह बाबा काली माई के कसम आज तीन दिन से मोबाइल में टावरे नहीं पकड़ रहा था…
ए करेजा”.. रिसियाना मत
मोहब्बत के दुश्मन खाली हमरे तुम्हरे बाउजी ही नहीं हैं
यूनिनार औ एयरसेल वालें भी हैं”…?”….
जब फोनवा नहीं मिलता है तो मनवा करता है कि गढ़ही में कूद कर जान दे दें
अरे इन सबको आशिक़ों के दुःख का क्या पता रे”..?
हम चार किलो चावल बेच के नाइट फ्री वाला पैक डलवाये थे…
लेकिन हाय रे नेटवर्क”….कभी कभी तो मन करता है”…
की चार बीघा खेत बेचकर दुआर पर एक टावर लगवा लें”…. आ रात भर तुमसे बतियावें”….?
तुमको पता है जब जब सरसो का खेत देखता हूँ न तब तब तुम्हाई बहुते याद आवत है
लगता है तुम हंसते हुए दौड़कर मेरे पास आ रही हो….मन करता है ये सरसों का फूल तोड़कर तुम्हारे जूड़े में लगा दूँ
आ जोर से कहूं…”आई लव यू करेजा”….?
अरे अब गरीब लड़के कहाँ से सौ रुपया का गुलाब खरीदेंगे
जानती हो हवा एकदम फगुनहटा बह रही है… तुम तो घर से निकलती नहीं हो
यहाँ मटर, चना जौ के पत्ते सरसरा रहे हैं…रहर और लेतरी आपस में बतिया रहे हैं
मन करता है खेत में ही तुम्हारा दुपट्टा बिछाकर सो जाऊं आ सीधे होली के बिहान उठूँ
उस दिन चंदनिया के बियाह में तुम आई थी न”…. हम देखे थे तुम केतना खुश थी…
करिया सूट में एकदम फूल गोभी जैसन लग रही थी…?
तुमको पता है तुमको देखकर हम दू घण्टा नागिन डांस किये थे”…
बाकी सब ठीके है रात दिन तुम्हारी याद आती है पागल का हाल हो गया है
रहा नहीं जा रहा तेरह को बनारस में भरती है
देखो बरम बाबा का आशीर्वाद रहा तो मलेटरी में भरती होकर तुमसे जल्दी बियाह करेंगे…
हम नहीं चाहते की तुम्हारा बियाह किसी बीटेक्स वाले से हो जाए
और हमको तुम्हारे बियाह में रो रोकर पूड़ी पत्तल गिलास चलाना पड़े
आगे सब कुशल मंगल है”….. तु आपन खयाल रखना”….?
तुमहार आशिक “….

Tags:- Hindi Story, Story in Hindi, Stories in Hindi, Hindi Stories, Hindi Kahani, Kahani In Hindi, Kahaniya, Story, Kahani Hindi, Love Hindi Story, Sad Hindi Story, Love Story, Sad Story


A Spiritual Heart Touching Story In Hindi

एक बार एक राजा के राज्य में महामारी फैल गयी। चारो ओर लोग मरने लगे। राजा ने इसे रोकने के लिये बहुत सारे उपाय करवाये मगर कुछ असर न हुआ और लोग मरते रहे। दुखी राजा ईश्वर से प्रार्थना करने लगा। तभी अचानक आकाशवाणी हुई।

आसमान से आवाज़ आयी कि हे राजा तुम्हारी राजधानी के बीचो बीच जो पुराना सूखा कुंआ है अगर अमावस्या की रात को राज्य के प्रत्येक घर से एक – एक बाल्टी दूध उस कुएं में डाला जाये तो अगली ही सुबह ये महामारी समाप्त हो जायेगी और लोगों का मरना बन्द हो जायेगा।

राजा ने तुरन्त ही पूरे राज्य में यह घोषणा करवा दी कि महामारी से बचने के लिए अमावस्या की रात को हर घर से कुएं में एक-एक बाल्टी दूध डाला जाना अनिवार्य है । अमावस्या की रात जब लोगों को कुएं में दूध डालना था उसी रात राज्य में रहने वाली एक चालाक एवं कंजूस बुढ़िया ने सोंचा कि सारे लोग तो कुंए में दूध डालेंगे अगर मै अकेली एक बाल्टी पानी डाल दूं तो किसी को क्या पता चलेगा।

इसी विचार से उस कंजूस बुढ़िया ने रात में चुपचाप एक बाल्टी पानी कुंए में डाल दिया। अगले दिन जब सुबह हुई तो लोग वैसे ही मर रहे थे। कुछ भी नहीं बदला था क्योंकि महामारी समाप्त नहीं हुयी थी। राजा ने जब कुंए के पास जाकर इसका कारण जानना चाहा तो उसने देखा कि सारा कुंआ पानी से भरा हुआ है। दूध की एक बूंद भी वहां नहीं थी।

राजा समझ गया कि इसी कारण से महामारी दूर नहीं हुई और लोग अभी भी मर रहे हैं। दरअसल ऐसा इसलिये हुआ क्योंकि जो विचार उस बुढ़िया के मन में आया था वही विचार पूरे राज्य के लोगों के मन में आ गया और किसी ने भी कुंए में दूध नहीं डाला।

मित्रों , जैसा इस कहानी में हुआ वैसा ही हमारे जीवन में भी होता है। जब भी कोई ऐसा काम आता है जिसे बहुत सारे लोगों को मिल कर करना होता है तो अक्सर हम अपनी जिम्मेदारियों से यह सोच कर पीछे हट जाते हैं कि कोई न कोई तो कर ही देगा

अगर आपको स्टोरी पसंद आये हो तो हमारा फेसबुक का पेज ज़रूर लिखे करे. इससे ये होगा की जब हम कोई भी पोस्ट करेंगे तो आपके न्यूज़ फीड्स में पोस्ट मिलता रहेगा

Tags:- Hindi Story, Story in Hindi, Stories in Hindi, Hindi Stories, Hindi Kahani, Kahani In Hindi, Kahaniya, Story, Kahani Hindi, Love Hindi Story, Sad Hindi Story, Love Story, Sad Stor


Best Hindi Story

दो भाई थे ।आपस में बहुत प्यार था। खेत अलग अलग थे आजु बाजू।बड़े भाई शादीशुदा था । छोटा अकेला ।एक बार खेती बहुत अच्छी हुई अनाज बहुत हुआ ।खेत में काम करते करते बड़े भाई ने बगल के खेत में छोटे भाई से खेत देखने का कहकर खाना खाने चला गया।उसके जाते ही छोटा भाई सोचने लगा । खेती तो अच्छी हुई इस बार आनाज भी बहुत हुआ । मैं तो अकेला हूँ । बड़े भाई की तो गृहस्थी है । मेरे लिए तो ये अनाज जरुरत से ज्यादा है ।

भैया के साथ तो भाभी बच्चे है ।उन्हें जरुरत ज्यादा है।ऐसा विचारकर वह 10 बोरे अनाज बड़े भाई के अनाज में डाल देता है।बड़ा भाई भोजन करके आता है । उसके आते छोटा भाई भोजन के लिए चला जाता है।

भाई के जाते ही वह विचरता है ।मेरा गृहस्थ जीवन तो अच्छे से चल रहा है…भाई को तो अभी गृहस्थी जमाना है…उसे अभी जिम्मेदारिया सम्हालना है… मै इतने अनाज का क्या करूँगा…ऐसा विचारकर वो 10 बोरे अनाज छोटे भाई के खेत में डाल दिया…। दोनों भाई के मन में हर्ष था…अनाज उतना का उतना ही था और हर्ष स्नेह वात्सल्य बढ़ा हुआ था…। सोच अच्छी रखो प्रेम बढेंगा !!दुनिया बदल जायेंगी !!

अगर आपको स्टोरी पसंद आये हो तो हमारा फेसबुक का पेज ज़रूर लिखे करे. इससे ये होगा की जब हम कोई भी पोस्ट करेंगे तो आपके न्यूज़ फीड्स में पोस्ट मिलता रहेगा. और पोस्ट को शेयर करना  🙂 🙂


Best Hindi Kahani

एक बार एक लड़का अपने स्कूल की फीस भरने के लिए  कुछ सामान बेचा करता था,एक दिन उसका कोई सामान नहीं बिका और उसे बड़े जोर से भूख भी लग रही थी.उसने तय किया कि अब वह जिस भी दरवाजे पर जायेगा, उससे खाना मांग लेगा.पहला दरवाजा खटखटाते ही एक लड़की ने दरवाजा खोला जिसे देखकर वह घबरा गयाऔर बजाय खाने के उसनेपानी का एक गिलास माँगा लड़की ने भांप लिया था कि वह भूखा है

इसलिए वह एक बड़ा गिलास दूध का ले आई लड़के ने धीरे-धीरे दूध पी लिया कितने पैसे दूं  लड़के ने पूछा. पैसे किस बात के लड़की ने जवाव में कहा.माँ ने मुझे सिखाया है कि जब भी किसी पर दया करो तो उसके पैसे नहीं लेने चाहिए.तो फिर मैं आपको दिल से धन्यवाद देता हूँ.जैसे ही उस लड़के ने वह घर छोड़ा उसे न केवल शारीरिक तौर परशक्ति भी मिल चुकी थी  बल्कि उसका भगवान् और आदमी पर भरोसा और भी बढ़ गया था सालों बाद वह लड़की गंभीर रूप से बीमार पड़ गयी.

लोकल डॉक्टर ने उसे शहर के बड़े अस्पताल में इलाज के लिए भेज दिया.बड़े डाक्टर को मरीज देखने के लिए बुलाया गया.जैसे ही उसने लड़की के कस्बे का नाम सुना उसकी आँखों में चमक आ गयी.वह एकदम सीट से उठा और उस लड़की के कमरे में गया.उसने उस लड़की को देखा एकदम पहचान लिया और तय कर लिया कि वहउसकी जान बचाने के लिएजमीन-आसमान एक कर देगा.उसकी मेहनत और लग्न रंग लायीऔर उस लड़की कि जान बच गयी.

डॉक्टर ने अस्पताल के ऑफिस में जा कर उसलड़की के इलाज का बिल लिया.उस बिल के कौने में एक नोट लिखा औरउसे उस लड़की के पास भिजवा दिया. लड़की बिल का लिफाफा देखकर घबरागयी.उसे मालूम था कि वह बीमारी से तो वह बच गयी है लेकिन बिल कि रकम जरूर उसकी जान ले लेगी.फिर भी उसने धीरे से बिल खोला रकम को देखा

और फिर अचानक उसकी नज़र बिल के कौने में पैन से लिखे नोट पर गयी.जहाँ लिखा था एक गिलास दूध द्वारा इस बिल का भुगतान किया जा चुका है.नीचे उस नेक डॉक्टर के हस्ताक्षर थे.ख़ुशी और अचम्भे से उस लड़की के गालों पर आंसू टपक पड़े उसने ऊपर कि और दोनों हाथ उठा कर कहा हे भगवान..! आपका बहुत-बहुत धन्यवाद..आपका प्यार इंसानों के दिलों और हाथों के द्वारा न जाने कहाँ- कहाँ फैल चुका है.अगर आप दूसरों पर.अच्छाई करोगे तो आपके साथ भी अच्छा ही होगा

Tags:- Hindi Story, Story in Hindi, Stories in Hindi, Hindi Stories, Hindi Kahani, Kahani In Hindi, Kahaniya, Story, Kahani Hindi, Love Hindi Story, Sad Hindi Story, Love Story, Sad Story


Heart Touching Story

एक छोटा सा बच्चा अपने दोनों हाथों में एक एक एप्पल लेकर खड़ा था ! उसके पापा ने मुस्कराते हुए कहा कि- “बेटा एक एप्पल मुझे दे दो !इतना सुनते ही उस बच्चे ने एक एप्पल को दांतो से कुतर लिया !

उसके पापा कुछ बोल पाते उसके पहले ही उसने अपने दूसरे एप्पल को भी दांतों से कुतर लिया !अपने छोटे से बेटे की इस हरकत को देखकर बाप ठगा सा रह गया और उसके चेहरे पर मुस्कान गायब हो गई थी !तभी उसके बेटे ने अपने नन्हे हाथ आगे की ओर बढाते हुए पापा को कहा….पापा ये लो.. ये वाला ज्यादा मीठा है


Hindi Love Story

एक लड़का एक लड़की से बेहद प्यार करता था .. लड़का-खाना खाया जान..? लड़की-नही मूड खराब है..लड़का-क्यों क्या हुआ जान.. लड़की-मैं एक ड्रेस लेना चाहती हूँ और मम्मी पापा पैसे नही दे रहे है। लड़का-तो क्या हुआ मैं दिला दूंगा पागल लड़की-तुम कैसे दे सकते हो..?तुम्हारे पास पैसे हैं इतने? लड़का-तुम टेंशन ना लो और खाना खा लो जान..अगले दिन..लड़का अपनी गोल्डन चैन बेचकर लड़की को पैसे दे देता हैं.. लड़की-(बहुत खुश होती है) I Love U Dear..

और देखते ही देखते 4 महीने बीत जाते हैं…और एक दिन अचानक.. लड़की-हम अब कभी नही मिलेंगे…मैं एक बहुत अमीर लड़के से शादी कर रही हूँ। लड़का- पर मैं तुमसे प्यार करता हूँ… लड़की-प्यार से ज़िन्दगी नही गुजरती..मेरी और भी जरूरतें हैं …और तुम मुझे कुछ भी नही दे सकते हो..ओके गुड़ बाय और हो सके तो मुझे भूल जाना  लड़का-कभी जरूरत पड़ी तो एक दिन वो चीज भी दे दूँगा जो तुमने कभी सोची भी नही होगी..ओके…अपना ख्याल रखना और खुश रहना..

और लड़की अमीर लड़के से शादी कर लेती हैं और धीरे धीरे 2 साल गुजर जाते हैं…. पर लड़का तब भी उस लड़की की पल पल की खबर रखता है.. और एक दिन लड़की की तबियत ख़राब हो जाती हैं और उसे हॉस्पिटल ले जाना पड़ता हैं.) डॉक्टर-हम इसे नही बचा पाएंगे…इसे बचाने के किये किसी को ओन हार्ट देना होगा..3 घण्टे बाद लड़की को होश आ जाता हैं

और..लड़की-पापा कैसे बच गयी में?किसने मुझे अपना हार्ट दिया? लड़की का बाप-वही जो यूंह पागलो की तरह प्यार करता था  ये लैटर पढ़ लो उस लैटर में लिखा था.. “एक दिन तुम ने इस दिल को ठुकरा दिया था..और आज वही दिल तुम्हारे सीने में धड़क रहा हैं…अब इसे कैसे ठुकरोगी”…..??) लड़की फुट फुट कर रोने लगती हैं.. माना में पैसा हर जरूरत पूरी कर सकता हैं ..पर हर चीज पैसे से नही खरीदी जा सकती

Tags:- Hindi Story, Story in Hindi, Stories in Hindi, Hindi Stories, Hindi Kahani, Kahani In Hindi, Kahaniya, Story, Kahani Hindi, Love Hindi Story, Sad Hindi Story, Love Story, Sad Story


Story Of The Day In Hindi

मेरे एक बहुत अच्छ दोस्त हैे जो एक स्कूल के प्रिंसिपल हैं. शिक्षा के क्षेत्र में उनका नाम है और वो एक बहुत काबिल प्रशासक हैं. उन्होंने अपनी एक टीचर को सबके बीच में बहुत जोर से डांटा. दो घंटे बाद स्टाफ रूम में फिर डाँटा. छठे पीरियड में फिर एक बार सभी टीचर्स के बीच में डांट दिया. लड़की बेचारी वहीं सबके बीच फफक के रो पड़ी. फिर आया आखिरी पीरियड.

उसमें उस दिन पूरे स्टाफ की एक मीटिंग थी. सब बैठे. प्रिंसिपल ने उनसे पूछा …… क्यों ? आया मज़ा ? सबके बीच में यूँ डांट खा के कैसा लगता है ? बुरा लगा न ?

उन बच्चों को भी बुरा लगता होगा जिन्हें तुम रोजाना डांटती हो …….. अपनी खीज उतारने के लिए मार देती हो …..उन्हें Duffer, गधा, नालायक,कामचोर और न जाने क्या क्या बोलती हो …….कितना Demoralize होते होंगे वो …….. मैं इतने दिन से तुम्हे समझा रहा हूँ …… तुम्हे समझ नहीं आ रहा था. आज मैं तुमसे नाराज नही था मैंने तुम्हे सिर्फ ये अहसास दिलाने के लिए कि सार्वजनिक प्रताड़ना कितनी कष्ट दायी होती है, तुम्हें जान बूझ के डांटा. लड़की फिर रोने लगी.

एक दिन फिर मीटिंग हो रही. थी सबके काम काज की समीक्षा हो रही थी. काम के मामले में उस लड़की की खूब तारीफ हुई. दस मिनट बाद उसे खड़ा किया. पूछा …. कैसा लगा ? अच्छा लगा न ? सबके बीच में तारीफ हुई ……. कैसा फील हुआ …….

उस मीटिंग के बाद प्रिंसिपल साहिब ने योजनाबद्ध तरीके से उस लड़की की सबके सामने तारीफ करनी शुरू की …… तुम्हारा ये ये काम बहुत अच्छा है. You Are My Most Valuable Staff ….. इस इस Field में सुधार करो ……. ये ये गलतियां सुधारो …… तुम जिंदगी में बहुत ऊपर जाओगी. कहना न होगा ……. आज वो लड़की उनके स्कूल की सबसे काबिल टीचर है ……..

मैं ऐसे बहुत से लोगों को जानता हूँ जो ये बताते हैं कि हमारे बाप ने कभी जिंदगी में हमारी तारीफ न की ….. हमेशा नालायक ही बताया ……. मेरे एक मित्र आज भी उस टीचर को याद करके भावुक हो जाते हैं जो हमेशा स्कूल में उनकी तारीफ करते थे ….

नालायक से नालायक आदमी में भी कुछ गुण तो होते ही हैं ….. क्यों न उन्हें ही Explore किया जाए …… दुनिया भर में तिरस्कृत बच्चे को तारीफ का एक शब्द जलते अंगारे पे पड़ी पानी की शीतल बूँद सा लगता है ……..

समाज में प्रोत्साहन से जो Results मिल सकते हैं वो Punishment से कभी नहीं मिल सकते. अपने बच्चों की और अपने आसपास के लोगो की तारीफ करना सीखिए.

Tags:- Hindi Story, Story in Hindi, Stories in Hindi, Hindi Stories, Hindi Kahani, Kahani In Hindi, Kahaniya, Story, Kahani Hindi, Love Hindi Story, Sad Hindi Story, Love Story, Sad Story


Funny Very Short Stories

पति: “आज सब्ज़ी में नमक थोड़ा ज़्यादा लग रहा है!”
पत्नी: “नमक ठीक है… सब्ज़ी कम पड़ गई, बोला था ज़्यादा लाया करो
पति: “आलू के परांठो में आलू तो नजर नहीं आ रहे हैं”
पत्नी: “चुपचाप खा लो!! कश्मीरी पुलाव में क्या कश्मीर नजर आता है
पति दूध पीकर: छीः ये कैसा दूध है ?
बीवी: वो केसर ख़त्म हो गया था जी
तो मैंने आपकी जेब से ‘बिमल पान मसाला’ डाल दिया
क्योंकि -इसके दाने -दाने मे है केसर का दम


Short Stories With A Twist Ideas

मेरे एक “Facebook Friend” ने Post किया कि-
काश कि तुम मौत होती, एक दिन ही सही मेरी तो होती
तो मैंने भी Comment कर दिया कि भाई –
अगर वो मौत होती तो एक दिन सबकी होती
भाई ने तुरन्त ही Unfriend कर दिया…
बताइये अब तो Logic भी देना गलत हो गया !!
ग्वार फली ₹100 किलो…सोचो, पढी लिखी होती तो…कितना भाव खाती।
काली मिर्च ₹1000 में एक किलो सोचो अगर गोरी होती तो…कितना भाव खाती
हमने तो अब सोचना ही छोड़ दिया,जब से विद्या बालन कहने लगी है
की…जहां सोच वहा शौचालय !”


Short Stories With A Twist For Kids

पिंटू : दादी नींद नहीं आ रही है | TV देख लूँ
दादी: मुझसे बातें कर ले..
पिंटू : दादी क्या हम हमेशा 6 ही रहेगें..? आप, मम्मी, पापा, दीदी, मैं और मेरी बिल्ली.
दादी : नहीं बेटा, आप के लिये कल डॉगी भी आ रहा है | तो 7 हो जायेंगे |
पिंटू : पर…दादी डॉगी तो बिल्ली
को खा जायेगा, तो फिर 6 हो जायेंगे !!!!
दादी : नहीं बेटा, आपकी शादी हो जायेगी तो फिर 7 हो जायेंगे |
पिंटू : फिर बहन चली जायेगी शादी करके तो फिर 6 हो जायेंगे !!
दादी : बेटा.. फिर आपका बेटा.. हो जायेगा तो फिर 7 हो जायेंगे..|
पिंटू : तब तक आप मर जाओगी वापस से 6 हो जायेंगे…!!!
दादी : कुत्ते….!!! जा TV देख


Funny Short Stories With A Twist

स्कूल में मेरी होती थी अक्सर पिटायी !मैं 2G था, और मैडम थी Wi-Fi ! ……………….: उस पर मेरा, सॉफ्टवेयर बडा पुराना था !ट्यूब लाईट था मैं, जब CFL का जमाना था !! :……………………. गणित में तो, मैं बचपन से ही फ़्लॉप था !भेजे का पासवर्ड, बड़े दिनों तक लॉक था !! :…………………. जब जब स्कूल जाने में, मैं लेट हुआ!प्रिंसपल की डाँट से, सॉफ़्टवेयर अपडेट हुआ !! :………………. हाईस्कूल में, ईश्क का वायरस घुस बैठा !भेजे में सुरक्षित, सारा डाटा ,समाप्त कर बैठा!! :…………… नजरों से नजरें टकरायी, 10th क्लास में !मैसेज आया, मेरे दिल के इनबॉक्स में !!
जब जब मैंने, आगे बढकर पोक किया !धीरे से उसने, नजरें झुकाकर रोक दिया !! :……………… कॉलेज में देखा किसी गैर के साथ, तो मन बैठा !ईश्क का वायरस, एंटीवायरस बन बैठा !! :……………… वो रियल थी, लेकिन फ़ेक आईडी सी लगने लगी !बातों से अपनी, मेरे यारों को भी ठगने लगी !!

आयी वो वापस, दिल पे मेरे नॉक किया !लेकिन फ़िर मैंने, खुद ही उसको ब्लॉक किया !! :…………. मेरे जीवन में, अब प्यार के लिए स्पेस नहीं !मैं ‘योगी’ हूँ पगली, मजनू का अवशेष नहीं !! :………. कॉलेज से निकला, दुनियादारी सीखने लगा !बना मैं शायर, देशप्रेम पर लिखने लगा !! :………… डरता है दिल, जिंदगी मेरी ना वेस्ट हो !जो कुछ लिखूँ, सदियों तक कॉपी पेस्ट हो


Hindi Funny story

शरारती बच्चा :मास्टरजी एक सवाल पूछें मास्टर जी :हाँ हाँ पूछो । बच्चा : हाथी को फ्रीज में कैसे रखेंगे ? मास्टरजी : बेवकूफ ,हाथी फ्रीज में नहीं जा सकता है । बच्चा : मास्टरजी फ्रीज बहुत बड़ा है , पहले फ्रीज खोलेंगे और हाथी को अंदर डाल देंगे ?? बच्चा : एक सवाल और पूछूँ । मास्टरजी : हाँ हाँ पूछो ?

बच्चा : गदहे को फ्रीज में कैसे रखेंगे ? मास्टरजी : पहले फ्रीज खोलेंगे और गदहे को उस में रख देंगे । बच्चा :गलत जवाब,पहले हाथी को बाहर करेंगे फिर गदहे को फ्रीजमें रखेंगे? बच्चा : एक सवाल और पूछूँ? मास्टरजी : हाँ हाँ पूछो । बच्चा : बंदर के जन्मदिन की पार्टी में सभी जानवर एवं जीव-जन्तु आए परन्तु एक जानवर नहीं आया । उसका नाम बतलायें ? मास्टरजी : शेर नहीं आया होगा क्योंकि वह आता तो सभी को खा जाता !

बच्चा : फिर गलत जवाब,गदहा पार्टी में नहीं आया क्योंकि गदहे को तो हमने फ्रीज में बंद कर दिया था ? ? ? बच्चा : एक सवाल और पूछूँ ? मास्टरजी :(गुस्से से )बोल हरामजादे । बच्चा : रास्ते में एक नदी है जिसमें एक खतरनाक मगरमच्छ रहता है एवं उस नदी के ऊपर आने-जाने के लिए पुल भी नहीं है,आप नदी कैसे पार करोगे ? मास्टरजी : मैं नाव लेकर नदी पार करूंगा ! बच्चा : फिर गलत जवाब ।

मास्टर : हरामजादे—बोल कैसे ? बच्चा : मास्टरजी इतनी जल्दी नाव कहाँ से आपको मिलेगी ,तबतक तो आप नदी तैरकर भी पार कर लोगे । मास्टर :मगरमच्छ से तेरा बाप बचाएगा ? बच्चा :मास्टरजी !आपकी इतनी फटती क्यों है? आपको तो पता है कि;सभी जीव – जानवर बंदर की Birthday पार्टी में गया हुआ है तो मगरमच्छ नदी में कैसे आ जाएगा ???? ??मास्टरजी बेहोश हो गए  हंसना बाद में पहले फारवर्ड करो


Funny Story in Hindi

एक Indian. लड़का American गया लड़के को जॉब नही मिली तो उसने क्लिनिक खोला और बाहर लिखा तीन सौ रूपये मे ईलाज करवाये ईलाज नही हुआ तो एक हजार रूपये वापिस…. एक American ने सोचा कि एक हजार रूपये कमाने का अच्छा मौका है वो क्लिनिक पर गया और बोला मुझे किसी भी चीज का स्वाद नही आता ।

Indian. लड़का ; बॉक्स नं.२२ से दवा निकालो और ३ बूँद पिलाओ नर्स ने पिला दी American: ये तो पेट्रोल है । Indian. लड़का : मुबारक हो आपको टेस्ट महसूस हो गया लाओ तीन सौ रूपये American को गुस्सा आ गया कुछ दिन बाद फिर वापिस गया पुराने पैसे वसूलने American :साहब मेरी याददास्त कमजोर हो गई है ।

Indian लड़का : : बॉक्स नं. २२ से दवा निकालो और ३ बूँद पिलाओ American : लेकिन वो दवा तो जुबान की टेस्ट के लिए है Indian लड़का : ये लो तुम्हारी याददास्त भी वापस आ गई लाओ तीन सौ रुपए। इस बार

American गुस्से में गया कुछ दिन बाद फिर गया और बोला -मेरी नजर कम हो गई है Indian लड़का : इसकी दवाई मेरे पास नहीं है। लो एक हजार रुपये। American -यह तो पांच सौ का नोट है। Indian लड़का : आ गई नजर। ला तीन सौ रुपये। East Or West India Is The Best