Main Shayar To Nahin Lyrics

Main Shayar To Nahin Lyrics, Main Shayar To Nahin, Me Shayar To Nahin, M Shayar To Nahi, Main Shayar To Nahin Lyrics, मैं शायर तो नहीं, मै शायर तो नहीं, Shayari

Main Shayar To Nahin Lyrics

Main Shayar To Nahin Lyrics

Main Shayar To Nahin Lyrics

मैं शायर तो नहीं मगर ऐ हसीं
जब से देखा मैंने तुझको
मुझको शायरी आ गयी
मैं आशिक तो नहीं मगर ऐ हसीं
जब से देखा मैंने तुझको
मुझको आशिकी आ गयी
प्यार का नाम मैंने सुना था मगर
प्यार क्या है, ये मुझको नहीं थी खबर
मैं तो उलझा रहा उलझनों की तरह
दोस्तों में रहा दुश्मनों की तरह
मैं दुश्मन तो नहीं
मगर ऐ हसीं
जब से देखा मैंने तुझको
मुझको दोस्ती आ गयी
सोचता हूँ अगर मैं दुआ मांगता
हाथ अपने उठाकर मैं क्या मांगता
जब से तुझसे मोहब्बत मैं करने लगा
तब से जैसे इबादत मैं करने लगा
मैं काफिर तो नहीं
मगर ऐ हसीं
जब से देखा मैंने तुझको
मुझको बंदगी आ गयी
Main Shayar To Nahin

Main Shayar To Nahin

Main Shayar To Nahin Lyrics English

main shaayar to nahin
magar ai hanseen
jab se dekha, main ne tujh ko, mujh ko
shaayari, aa gai
mainn aashiq to nahin
magar ai haseen
jab se dekhaa, main ne tujh ko, mujh ko
aashiqi, aa gai
pyaar ka naam main ne suna tha magar
pyaar kya hai ye mujh ko nahin thi khabar
main to ulajha raha ulajhanon ki tarah
doston men raha dushmanon ki tarah
main dushman to nahin
magar ai haseen
jab se dekhaa, main ne tujh ko, mujh ko
dosti aa gai
sochata hun agar main dua maangata
haath apane uthaakar main kya maangata
jab se tujh se muhabbat main karane laga
tab se aise ibaadat main karane laga
main qaafir to nahin
magar ai haseen
jab se dekha, main ne tujh ko, mujh ko
bandagi aa gai