Majboori Shayari : Lachari Hindi Shayari

Majboori Shayari, लाचारी शायरी, मजबूरी शायरी, Lachari Hindi Shayari, Majboori Hindi Shayari, लाचारी हिन्दी शायरी, मजबूरी हिन्दी शायरी, Lachari Ki Shayari

NA POCH MERE SARB KI IMTEHAAN KAHA TAK HAI
TO SITAM KARLE TERI HASRAT JAHAN TAK HAI
WAFA KI UMMED JINHE HOGI UNHE HOGI
HAMHE TO YE DEKHNA HAI TO BEWAFA KAHAN TAK HAI

Majboori Shayari

Majboori Shayari

Majboori Shayari

न पोच मेरे सर्ब की इम्तेहान कहाँ तक है
तो सितम कर ले तेरी हसरत जहाँ तक है
वफ़ा कि उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी
हम्हे देखना है तो बेवफा कहाँ तक है

Majboori Shayari

FARZ THA JO MERA NIBHA DIYA MAINE
USNE MANGA JO WO SAB DE DIYA MEINE
WO SUNKE GAIRON KI BAATEIN BEWAFA HU GAYE
SAMJH KE KHUWAB USKE AAKHIR BHOLA DIYA MEINE

Behtreen Majboori Shayari

Behtreen Majboori Shayari

फ़र्ज़ थे जो मेरा निभा दिया मैंने
उसने मनाग जो वो सब दे दिया मैंने
वो सुनके गैरों की बातें बेवफा हु गए
समझ के खुवाब उसके आखिर भुला दिया मैंने

लाचारी शायरी, मजबूरी शायरी

DIL NA CHA KAR BHI KHAMOSH RAH JATA HAI
KOI SAB KUCH KAHE KAR PIYAAR ZATATA HAI
KOI KUCH BINA KAHE BHI SAB BOL JATA HAI

Lachari Hindi Shayari

Lachari Hindi Shayari

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है
दिल न च कर भी खामोश रह जाता है
कोई सब कुछ कहे पियार जताता है
कोई कुछ बिना कहे भी सब बोल जाता है

Lachari Hindi Shayari

JAB KOI KHAYAL DIL SE TAK RATA HAI

HAR KOI KISI KI MAJBOORI NAHI SAMJHTA
DIL SE DIL KI DORI NAHI SAMJHTA
KOI TO KISI KE BINA MAR MAR KE JE JATA HAI
AUR KOI KISI KO YAAD KARNA BHI ZARURI NAHI SAMJHTA

Lachari Ki Shayari

Lachari Ki Shayari

हर कोई किसी की मज़बूरी नहीं समझता
दिल से दिल की डोरी नहीं समझता
कोई तो किसी के बिना मर मर के जीता है
और कोई कीड़ी को याद करना भी ज़रूरी नशी समझता

Majboori Hindi Shayari

TUJHSE DOOR RAHKAR MOHABBAT BADHTI JA RAHI HAI
KAISE KAHON YE DORI TUJHE AUR KAREEB LA RAHI HAI
तुझसे दूर रहेकर मोहब्बत बढ़ती जा रही है
केसे कहूँ ये दुरी तुझे और करीब ला रही है

Latest Majboori Shayari

Latest Majboori Shayari

HAKIQAT JAAN LO JUDA HUNE SE PAHELE
MERI SUN LO APNI SUNANE SE PAHELE
YE SOCH LENA BHULANE SE PAHELE
BOHUT ROYI HAI YE AANKHEIN MUSHKURANE SE PAHELE

Top 10 Majboori Shayari

Top 10 Majboori Shayari

हकीक़त जान लो जुदा होने से पहले
मेरी सुन को अपनी सुनाने से पहेले
ये सोच लेना भुलाने से पहेले
बहुत रोयी है ये आँखें मुश्कुराने से पहेले

Majboori Hindi Shayari

Majboori Hindi Shayari

TERI KHAMOSHI AGAR TERI MAZBURI HAI
TO RAHENE DE ISHQ KUON ZARURI HAI
तेरी ख़ामोशी अगर तेरी मज़बूरी है
तो रहेने दे इश्क कुओं सा ज़रूरी है

Pyaar Me Lachari Shayari

Pyaar Me Lachari Shayari

KAASH TO SAMJH SAKTA KISI KE USULON KO
KISI KI SAASON MEIN SAMA KAR USE TANHA NAHI KARTE
काश तो समझ सकता किसी के उसूलों को
किसी की साँसों में समां कर उसे तनहा नहीं करते

Mast New Majboori Shayari

Mast New Majboori Shayari

EK BAAR DEKH KAR AZZAD KAR DE MUJHE
MEIN ABHI TERI PEHLI NAZAR KE QAID MEIN HOON
एक बार और देख कर आज़ाद कर दे मुझे
में आज भी तेरी पहली नज़र के क़ैद में हूँ

लाचारी हिन्दी शायरी

HAJARON CHAHRON MEIN EK TUM HI THE
JIS PER HUM MAR MITE WARNA
NA CHAHTUN KI KAMI THI AUR
NA CHANE WALON KI

New Majboori Shayari

New Majboori Shayari

Also Read : Romantic Shayari