Maut Shayari

Maut Shayari, मौत शायरी, Maut Shayari in Hindi, Kfan Shayari, Death Shayari, कफन शायरी, डेथ शायरी, Shayari, Death Shayari In Hindi, Hindi Death Shayari

RUKHSAT HUE TERI GALI SE HUM AAJ KUCH ISS KADAR
LOGO KE MOH PR RAAM RAAM THA
AUR MERE DIL MEIN BUS TERA NAM THA

Maut Shayari

रुखसत हुए तेरी गली से हम आज कुछ इस कदर
लोगो के मुह पे राम नाम था और मेरे दिल में बस तेरा नाम

Maut Shayari

Maut Shayari

MITTI MERI KABR SE UTHA RAHA HAI KOI
MARNE KE BAAD BHI YAAD AA RAHA HAI KOI
AYE KHUDA KUCH PAL MOHALAT AUR DE DE
UDAAS MERI KABR SE JAA RAHA HAI KOI


मिटटी मेरी कब्र से उठा रहा है कोई
मरने के बाद भी याद आ रहा है कोई
ए खुदा कुछ पल की मोहलत और दे दे
उदास मेरी कब्र से जा रहा है कोई

WO MAUT BHI BARI SUHANI HOGI
JO AAP KI PIYAAR MEIN AANI HOGI
UE DUAA HAI KHUDA SE KI PAHLE HUM JAYE
KYU KE YE WELL COME KI RASAM BHI TO NIBHANI HOGI

Maut Shayari in Hindi

Maut Shayari in Hindi

वो मौत भी बरी सुहानी होगी
जो आप की पियार में आनी होगी
ये दुआ है खुदा से की पहेले हम जाये
क्युं के ये वेल काम की रसम भी तो निभानी होगी

JAB MERA JANAZA IS JAMANE MEIN NIKLA
MERE JANAZE KO DEKHNE SAARA ZAMANA NIKLA
MAGAR MERE JANAZE MEIN WO NA NIKLE
JISKE LIYE MERA JANAZA JAMANE MEIN NIKLA


जब मेरा जनाज़ा इस ज़माने से निकला
मेरे जनाज़े को देखने सारा ज़माना निकला
मगर मेरे जनाज़े में वो न निकले
जिस के लिए मेरा जनाज़ा में निकला
Kfan Shayari

Kfan Shayari

WO DHUND RAHE THE HUME
SHAYAD UNHE HUMARI TALASH THI
PAR JAHAN WO KHADE THE
WAHI DAFAN HAMARI LAASH THI
वो धुंद रहे थे हमे शायद उन्हें हमारी तलाश थी
पर जहाँ वो खड़े थे वही दफ़न हमारी लाश थी

Death Shayari In Hindi

Death Shayari In Hindi

HAR KAAM KIYA MAINE USKI KHUSHI KE LIYE
JANE TAB BHI Q BEWAFA KAHLATA HUN
MAUT SE PAHLE USKI DEDAAR KI KHUWAISH HAI MERI
BUS ISLIYE ZINDAGI KA SAATH NIBHATA HUN

Dillagi Quotes

Dillagi Quotes

हर काम किया मैंने उसकी ख़ुशी के लिए
जाने तब भी क्यूँ बेवफा कहलाता हूँ
मौत से पहले उसकी दीदार की ख्वाहिश है मेरी
बस इसलिए ज़िन्दगी का साथ निभाता हूँ

CHAIN TO CHHEEN CHUKA HAI AB BUS JAAN BAKI HAI
ABHI MOHABBAT MEIN MERA IMTEHAAN BAAKI HAI
MIL JANA WAQT PAR PAR AY MAUT KE FARISHTE
KISI KO GILA HAI KISI KA FARMAAN BAAKI HAI


चैन तो छिन चूका है अब बस जान बाकी है
अभी मोहब्बत में मेरा इम्तेहान बाकी है
मिल जाना वक़्त पर पर ए मौत के फ़रिश्ते
किसी को गिला है किसी का फरमान बाकी है
Death Shayari

Death Shayari

AATA HAI KOUN KOUN TERE GHUM KO BAANTNE
GHALIB TU APNI MAUT KI AFWAAH UDAA KE DEKH
आता है कौन कौन तेरे गम को बांटने
ग़ालिब तो अपनी मौत की अफवाह उड़ा के देख


EK DIN YE NAZARA BHI DEKH LENA ZAALIM
MERA ZAJANA TERI BARAAT SE ACCHA HOGA
एक दिन ये नज़ारा भी देख लेना ज़ालिम
मेरा जनाजा तेरी बरात से अच्छा होगा