My Life My Shayari Hindi

My Life My Shayari Hindi, My Shayari Hindi, Meri Shayari, मेरी शायरी, माई लाइफ माई शायरी, Latest My Life My Shayari Hindi, New My Life My Shayari Hindi, Best My Life My Shayari Hindi, Top My Life My Shayari Hindi, My Life My Status, My Shayari, माई शायरी, My Love My Life Shayari, My Life My Shayari Sad, My Life My Shayari Sad Love

My Life My Shayari Hindi

My Life My Shayari Hindi

वो पूरी गिन्दगी अपनी इमेज बनाने में रह गए
और हम पूरी gallary बना गए
Wo Puri Life Apni Imaje Bnane Me Rah Gae
Aour Hme Puri Gailri Bga Gae

My Life My Shayari Hindi


लगता है इक बार फिर मोहब्बत हो ही जाएगी
रात फिर खाव्ब में खुद को मरते देखा है
LAGTA HAI EK BAAR FIR MOHABBAT HO HI JAAEGI
RAAT FIR KHAWAB ME KHUD KO MARTE DEKHA HAI


मसला ये भी है इस ज़ालिम दुनिया का
कोई अगर अच्छा भी है तो क्यूँ है
MASLA YE BHI HAI ES ZALIM DUNIYA KA
KOY AGAR ACCHA BHI HAI TO KYU HAI
My Shayari In Hindi

My Shayari In Hindi


उस मोड़ से शुरू करनी है फिर से जिंदगी
जहाँ सारा शहर अपना था और तुम अजनबी
Us Mod Se Shooru Karni Hai Fir Se Zindgi
Jhan Sara Sahar Apna Tha Aour Tum Aznabi


रोशनी के लिए घर जलाना पडा
कैसी ज़ुल्मत बढ़ी तेरे जाने के बाद
Roshni Ke Liae Ghar Jlana Pda
Kaisi Zulm Bdhi Tere Jane Ke Baad


मिलेंगे कभी तो खूब रुलायेंगे उन्हें.
सुना है…रोते हुवे लिपट जाने की आदत है उन्हें
Milenge Kabhi To Khoob Rulaaenge Unhe
Suna Hai Rote Huae Lipat Jane Ki Aadat Hai Unhe


माफ़ तुझको न करेगी कभी तारीखे वफ़ा
देश के नाम पे ऐ धब्बा लगाने वाले
Maaf Tujhko Na Krenge Kabhi Tareekhe Wfa
Desh Ke Naam Pe Ae Dhabba Lgane Wale

मजबूरियों ने हमको बागी बना दिया
वरना हमारे सर तो हरदम झुक रहे
Mazbooriyo Ko Humne Bagi Bna Diya
Warna Hmare Sar To Hardah Jhuk Rhe


इतने दिन ईद का इंतजार क्यूँ करे
लग जाओ ना गले किसी ओर बहाने से
itne Din Eid Ka Intzaar Kyu Kre
Lag Jaao Na Gale Kisi Aour Bhane Se


उनकी जुस्तुज़ू, उनका इन्तज़ार, और अकेलापन
थक कर मुस्कुरा देता हूँ जब रोया नहीं जाता
Unki Zustzoo Unka Intzaar Aour AkelaPan
Thak Kar Mushkura Deta Hoon Jab Roya Nhi Jata

My Life My Shayari In Hindi

My Life My Shayari In Hindi


खामोशियों के बादल कुछ इस कदर बरसे
वो हमारे लिए और हम किसी और के लिए तरसे
KHAMOSHIYOKE BAADAL KUCH ES KDAR BARSE
WO HMARE LIAE AUOR HUM KISI AOU KE LIAE TARSE

जो सुलगता है, सीने में धीमा धीमा
आख़िर वो राख, हो क्यूँ नहीं जाता
JO SULAGTA HAI SENE ME DHEMA DHEMA
AAKHIR WO RAKH HO KYU NHI JATA


माँ-बाप का घर बिका तो बेटी का घर बसा
कितना अजीब फ़लसफ़ा है ”रसम-ए-दहेज़’ भी
MAA BAP KA GHAR BIKA TO BETI KA GHAR BSA
KITNA AZEEB FASLA HAI RASME- DAHEEZ KA


ख़त जो लिखा मैनें ” ईमान” के पते पर
डाकिया ही चल बसा शहर ढूंढ़ते ढूंढ़ते
Khat Zo Likha Maine Imaan Ke Pte Par
Dakiya Hi Chal Bsa Shar Dhoodhte Dhoodte

जिसके पास थोडा है वह गरीब नही है
लेकिन जो अधिक पाने की इच्छा रखता है वह गरीब है
Jiske Pas Thoda Hai Wo Gareeb Nhi
Lekin Jo Adhik Pane Ki Iccha Rakhta Hai Wo Gareeb Hia