Nafrat Shayari

Nafrat Shayari, Naraz shayari, नफरत शायरी, नफरत भरी शायरी, नफरत पर शायरी, नाराज शायरी, नफरत की शायरी, नफरत स्टेटस, Nafrat Shayari in Hindi, Nafrat Status in Hindi, Nafrat Status Hindi, Naraz Shayari in Hindi, Hindi Nafrat Shayari, HindiNaraz shayari, New Nafrat Shayari, Latest Nafrat Shayari

Nafrat Shayari

Nafrat Shayari

JARURAT HAI MUJHE NAYE NAFRAT KARNE WALON KI,
PURANE TOH AB MUJHE CHAHNE LAGE HAIN.
जरूरत है मुझे नये नफरत करने वालों की,
पुराने तो अब मुझे चाहने लगे है


Nafrat Shayari

HUMEIN BARBAAD KARNA HAI TOH HUMSE PYAR KARO,
NAFRAT KAROGE TOH KHUD BARBAAD HO JAOGE.
हमें बरबाद करना है तो हमसे प्यार करो,
नफरत करोगे तो खुद बरबाद हो जाओगे

Naraz shayari

LEKAR KE MERA NAAM WOH MUJHE KOSTA HAI,
NAFRAT HI SAHI PAR WOH MUJHE SOCHTA TOH HAI.
लेकर के मेरा नाम वो मुझे कोसता है,
नफरत ही सही पर वो मुझे सोचता तो है


चला जाऊँगा मैं धुंध के बादल की तरह,
देखते रह जाओगे मुझे पागल की तरह,
जब करते हो मुझसे इतनी नफरत तो क्यों,
सजाते हो आँखो में मुझे काजल की तरह

नफरत शायरी


खुदा सलामत रखना उन्हें,
जो हमसे नफरत करते हैं,
प्यार न सही नफरत ही सही,
कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे करते हैं


BAITH KAR SOCHTE HAIN AB KE KYA KHOYA KYA PAYA,
UNKI NAFRAT NE TODE BAHUT MERI WAFA KE GHAR.
बैठ कर सोचते हैं अब कि क्या खोया क्या पाया,
उनकी नफरत ने तोड़े बहुत मेरी वफ़ा के घर

नफरत भरी शायरी

WOH NAFRATEIN PAALE RAHE HUM PYAR NIBHATE RAHE,
LO YEH ZINDGI BHI KAT GAYI KHAALI HAATH SI.
वो नफरतें पाले रहे हम प्यार निभाते रहे,
लो ये जिंदगी भी कट गयी खाली हाथ सी

TUMHARI NAFRAT PAR BHI LUTA DI ZINDGI HUMNE.
SOCHO AGAR TUM MOHABBAT KARTE TOH HUM KYA KARTE.
तुम्हारी नफरत पर भी लुटा दी ज़िन्दगी हमने,
सोचो अगर तुम मुहब्बत करते तो हम क्या करते


HAI KHABAR ACHHI KE AAJA MUNH MEETHA KAREIN,
NAFRATEIN TERI HUYI HAIN BA-KHUSHI DIL KO KABOOL.
है खबर अच्छी कि आजा मुंह तेरा मीठा करें,
नफरतें तेरी हुई हैं बा-खुशी दिल को कुबूल

नफरत पर शायरी, नाराज शायरी


BHULANA HI THA MUJHKO TOH NAFRAT KA SAHARA KYUN,
DOOBNE DETE MUJHKO YUN HI DIKHAYA THA KINARA KYUN.
भुलाना ही था मुझको तो नफरत का सहारा क्यूँ,
डूबने देते मुझको यूँ ही दिखाया था किनारा क्यूँ

Nafrat Shayari in Hindi


NAFRAT HO JAYEGI TUJHE APNE HI KIRDAAR SE,
AGAR MAIN TERE HI ANDAAJ MEIN TUJHSE BAAT KARUN.
नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार से,
अगर मैं तेरे ही अंदाज में तुझसे बात करुं