Republic Day Shayari

शायरी पसन्द आये तो एक शेयर जरूर करे

न मस्जिद को जानते हैं , न शिवालों को जानते हैं
जो भूखे पेट होते हैं, वो सिर्फ निवालों को जानते हैं.
मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है.
की मेरा चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है.
में अमन पसंद हूँ, मेरे शहर में दंगा रहने दो,
लाल और हरे में मत बांटो, मेरी छत पर तिरंगा रहने दो

Republic Day Shayari

Republic Day Shayari

ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें भी परेशान हो जाएं
अगर परिंदे भी हिन्दू और मुस्लमान हो जाएं

Republic Day Shayari

Jindagi Jab Tujhko Samjha, Maut Phir Kya Chij Hai,
E Vatan Tu Hi Bata, Tujhse Badi Kya Chij Hai.

जिंदगी जब तुझको समझा, मौत फिर क्या चीज है
ऐ वतन तू हीं बता, तुझसे बड़ी क्या चीज है.

E Mere Vatan Ke Logon Tum Khub Laga Lo Naara,
Ye Shubh Din Hai Ham Sab Ka Lahra Lo Tiranga Pyara,
Par Mat Bhulo Seem Par Viron Ne Hain Pran Gawayen.
Kuchh Yaad Unhe Bhi Kar Lo Jo Laut Ke Ghar Na Aaye

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये

Likh Raha Hun Main Anjaam Jiska Kal Aagaj Aayega,
Mere Lahu Ka Har Ek Katra Inqlab Layega,
Main Rahun Ya Na Rahun Par Ye Vada Hai Tumse Mera Ki,
Mere Baad Vatan Par Marne Valon Ka Sailab Aayega.

Republic Day Shayari In Hindi

मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए
और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये

Apni Aazaadi Ko Ham Hargiz Mita Sakte Nahi,
Sar Kata Sakte Hain Lekin Sar Jhuka Sakte Nahi.

अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं

Na Maro Sanam Bewafa Ke Leeye,
Do Gaz Jameen Nhi Milegi Dafan Hone K Liye,
Marna Hai Toh Maro Vatan Ke Liye,
Hasina Bhi Duppta Utar Degi Tere Kafan Ke Liye.

न मरो सनम बेवफा के लिए,
दो गज जमीन नहीं मिलेगी दफ़न होने के लिए,
मरना है तो मरो वतन के लिए,
हसीना भी दुपट्टा उतार देगी तेरे कफ़न के लिए.

Kuchh Nasha Tirange Ki Aaan Ka Hain,
Kuch Nasha Matrbhumi Ki Shaan Ka Hai
Hum Lahrayenge Har Jagah Ye Tiranga
Nasha Ye Hindustan Ki Shaan Ka Hain.

Hindi Republic Day Shayari

कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिंदुस्तान की शान का है.

Chalo Phir Se Aaj Woh Nazara Yaad Kar Le,
Shahido Ke Dil Me Thi Vo Jwala Yaad Karle,
Jisme Behkar Azadi Pahuchi Thi Kinare Pe
Deshbhakto Ke Khoon Ki Vo Dhara Yad Krle

चलो फिर से आज वो नजारा याद कर लें,
शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद करले,
जिसमे बहकर आज़ादी पहुची थी किनारे पे,
देशभक्तों के खून की वो धरा याद कर लें.

Ishq Toh Karta Hain Har Koyi
Mehboob Pe Marta Hain Har Koyi,
Kbhi Watan Ko Mehbub Bna Kr Deko
Tujh Pe Marega Har Koyi

इश्क तो करता है हर कोई,
महबूब पे मरता है तो हर कोई,
कभी वतन को महबूब बना कर देखो
तुझ पे मरेगा हर कोई

वतन हमारा ऐसे न छोड़ पाए कोई,
रिश्ता हमारा ऐसे न तोड़ पाए कोई,
दिल हमारे एक है एक है हमारी जान,
हिंदुस्तान हमारा है, हम है इसकी शान.

Latest Republic Day Shayari

Desh Ko Aazaadi Ke Naye Afsanon Ki Jarurat Hai,
Bhagar-Aazaad Jaise Aazaadi Ke Deewanon Ki Jarurat Hai,
Bharat Ko Phir Deshbhakt Parwanon Ki Jarurat Hai.

देश को आजादी के नए अफसानों की जरूरत है
भगत-आजाद जैसे आजादी के दीवानों की जरूरत है,
भारत को फिर देशभक्त परवानों की जरूरत है.

Ye Baat Hawao Ko Bataye Rakhna,
Roshni Hogi Chirago Ko Jalaye Rakhna,
Lahu Dekar Jiski Hifazat Humne Ki…
Aise TIRANGE Ko Sada Dil Me Basaye Rakhna.

ये बात हवाओ को भी बताये रखना,
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहू देकर जिसकी हिफाज़त हमने की ..
ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना .


शायरी पसन्द आये तो एक शेयर जरूर करे