Shayari Hi Shayari

Shayari Hi Shayari, शायरी ही शायरी, शायरी का खजाना, Shayari Ka khazana, Shayari Hi Shayari, शायरी ही शायरी, शायरी का खजाना, Shayari Ka khazana

Shayari Hi Shayari

Shayari Hi Shayari

HAMNE BHI KISI SE PIYAAR KIYA THA
HATHON MEIN PHOOL INTEZAAR KIYA THA
BHUL UNKI NAHI BHUL HAMARI THI

Shayari Hi Shayari


KYUN KI UNHO NE NAHI HUMNE UNSE PIYAAR KIYA THA
AB SIKHAYAT TUJH SE NAHI KHUD SE HAI
MANA KE SAARE JHOT TERE THE
PAR UN PAR YAKEEN TO MERA THA

अब शिकायत तुझसे नहीं खुद से है
माना के सारे झुओत तेरे थे पर
उनपर यकीन तो मेरा था

LIKHNA TO THA KHUSH HUN TERE BAGAIR BHI
AANSOON MAGAR QALAM SE PEHLY HI GIR GAYE
लिखना तो था खुश हूँ तेरे बिगैर भी
आंसू मगर कलम से पहले ही गिर गए


SUNO NAZAR ANDAAZ KARNE WALE TERI KOI KHATA HI NAHI
MOHABBAT KIYA HITI HAI SHAYAD TUJHE PATA HI NAHI
ACCHA LAGTA HAI TERA NAAM MERE NAAM KE SAATH
JAISE KOI KHUBSURAT JODI HO KISI HASEEN SAAM KE SAATH

Hindi Shayari हिंदी शायरी

Hindi Shayari हिंदी शायरी


आँखों में अरमान दिया करते है हम सबकी नींद चुरा लिया करते है
अब से जब जब आपकी पलकें झाप्क्गी
समझ लेना तब तब हम आपको याद किया करते है

शुकरिया आप की इनायत का ग़म की दौलत मुझे अत कर दी
तुम ने हस हस के इब्तेदा की थी मैंने रो रो के इन्तहा कर दी


शिकवे तो बोहुत हैं मगर शिकायत नहीं कर सकता
मेरे होंटों को इजाज़त नहीं तेरे खिलाफ बोलने की

MEIN ISHQ USKA WO AASHIQUI HAI MERI
WO LADKI NAHI ZINDAGI HAI MERI
मैं इश्क उसका वो आशिकी है मेरी
वो लकड़ी नहीं ज़िन्दगी है मेरी


NAFRAT KARNI HAI TO HUMSE IS KADAR KAR
KI ISKE BAAD HUM MOHABBAT KE KAABIL NA RAHE
नफरत करनी है तो हमसे इस कदर कर
की इसके बाद हम मोहब्बत के काबिल ना रहे