Swatantrata Diwas Shayari

Swatantrata Diwas Shayari, Swatantrata Diwas Hindi Me, Swatantrata Diwas Shayari In Hindi, स्वतंत्रता दिवस शायरी, स्वतंत्रता दिवस पर शायरी, स्वतंत्रता दिवस पर कविता, स्वतंत्रता दिवस पर शेर, स्वतंत्रता दिवस पर नारे,  स्वतंत्रता दिवस की शायरी, New Swatantrata Diwas Shayari, Top Swatantrata Diwas Shayari, Swatantrata Diwas Status, Swatantrata Diwas Quotes, Swatantrata Diwas Status In Hindi, Swatantrata Diwas Quotes In Hindi, Shayari

Swatantrata Diwas Shayari

Swatantrata Diwas Shayari

कर जस्बे को बुलंद जवान
तेरे पीछे खड़ी आवाम
हर पत्ते को मार गिरायेंगे
जो हमसे देश बटवायेंगे

Swatantrata Diwas Shayari


भले हाथो में चूड़ी खनके
छन-छन करते पायल झुमके
पर देश की हैं हम प्रचंड नारी
वक्त पड़ने पर उठाएंगे तलवारे भारी

Swatantrata Diwas Shayari


जहाँ प्रेम की भाषा हैं सर्वोपरि
जहाँ धर्म की आशा हैं सर्वोपरि
ऐसा हैं मेरा देश हिन्दुस्तान
जहाँ देश भक्ति की भावना हैं सर्वोपरि

तिरंगा हमारा हैं शान- ए-जिंदगी
वतन परस्ती हैं वफ़ा-ए-ज़मी
देश के लिए मर मिटना कुबूल हैं हमें
अखंड भारत के स्वपन का जूनून हैं हमें

Swatantrata Diwas Shayari


मोहब्बत का दूसरा नाम हैं मेरा देश
अनेको में एकता का प्रतिक हैं मेरा देश
चंद गैरों की सुनना मुझे गँवारा नहीं
हिन्दू हो या मुस्लिम सभी का प्यारा है मेरा देश

दुश्मनी के लिए यह याद नहीं रहता
वतन मेरा दोस्ती पर कुर्बान हैं
नफरत पाले कोई उड़ान नहीं भरता
दिलों में चाहत ही मेरे वतन की शान हैं

Swatantrata Diwas Shayari


खुशनसीब हैं जो वतन पर कुर्बान हुये
जो तिरंगे में लिपट कर जिन्दगी से आजाद हुये
मर कर भी अमर हो गये वो
साधारण मनुष्य से शहीद की शहादत हो गये वो


वतन हैं मेरा सबसे महान
प्रेम सौहाद्र का दूजा नाम
वतन-ए-आबरू पर हैं सब कुर्बान
शांति का दूत हैं मेरा हिन्दुस्तान

मोक्ष पाकर स्वर्ग में रखा क्या हैं
जीवन सुख तो मातृभूमि की धरा पर हैं
तिरंगा कफ़न बन जाये इस जनम में
तो इससे बड़ा धर्म क्या हैं.


आजाद भारत के लाल हैं हम
आज शहीदों को सलाम करते हैं
युवा देश की शान हैं हम
अखंड भारत का संकल्प करते हैं

Swatantrata Diwas Shayari


कीमत करो शहीदों की
वो देश पर कुर्बान हुए
सिर्फ दो दिनों की मोहताज नहीं हैं देश भक्ति
नागरिको की एकता ही हैं देश की असल शक्ति

ना हिन्दू बन कर देखो
ना मुस्लिम बन कर देखों
बेटों की इस लड़ाई में
दुःख भरी भारत माँ को देखो


धर्म ना हिन्दू का हैं ना ही मुस्लिम का
धर्म तो बस इंसानियत का हैं
ये भूख से बिलकते बच्चो से पूछों
सच क्या हैं झूठ क्या हैं
किसी मंदिर या मज्जित से नहीं
बेगुनाह बच्चे की मौत पर किसी माँ से पूछो
देश का सपूत बनाना हैं तो कर्तव्य को जानो
अधिकार की बात न करों देश के लिए जीवन न्यौछारों

Swatantrata Diwas Shayari