Takleef Shayari : Takleef Bhari Shayari

शायरी पसन्द आये तो एक शेयर जरूर करे
  • 136
    Shares

कभी कभी तो घुटन इतनी बड जाती है के
दिल चाहता है किसी ऐसी जगह का कर सांस लिया जाये
जहाँ किसी इंसान का नाम वो निशा ना हो

Takleef Shayari

Takleef Shayari

Usko Chaha To
Mohabbat Ki Takleef Najar Aayi,
Varna Is Mohabbat Ki
Bas Tareef Suna Karte The.
उसको चाहा तो
मोहब्बत की तकलीफ नजर आई,
वरना इस मोहब्बत की
बस तारीफ़ सुना करते थे।

Takleef Shayari

Bas Yehi Soch Kar
Har Tapish Mein Jalta Aaya Hoon,
Dhoop Kitni Bhi Tez Ho
Samandar Nahi Sukha Karte.
बस यही सोच कर
हर तपिश में जलता आया हूँ,
धूप कितनी भी तेज़ हो
समंदर नहीं सूखा करते।

Takleef Wali Shayari

Chehre Ajnabi Ho Jaye
Toh Koyi Baat Nahi.
Mohabbat Ajnabi Hokar
Badi Takteef Deti Hai.
चेहरे अजनबी हो जाये
तो कोई बात नहीं,
मोहब्बत अजनबी होकर
बड़ी तकलीफ देती है।

Takleef Shayari In Hindi

Takleef Shayari In Hindi

Chal TujhKo Dikha Dun Main
Apne Dil Ki Veeran Galiyan,
Shayad TujhKo Taras Aa Jaye
Meri Udaas Zindagi Par.
चल तुझको दिखा दूँ मैं
अपने दिल की वीरान गलियाँ,
शायद तुझको तरस आ जाये
मेरी उदास जिंदगी पर।

Takleef Bhari Shayari

Khuda Ne Likha Hi Nahi Tujhko
Meri Kismat Mein Shayad,
Varna Khoya Toh Bahut Kuchh Tha
Tujhe Paane Ke Liye.
खुदा ने लिखा ही नहीं तुझको
मेरी किस्मत में शायद,
वरना खोया तो बहुत कुछ था
एक तुझे पाने के लिए।

takleef shayari 2 line

hamesha zindagi is tarah bashar karo ke dekhne
wale tumhare dard par afsoos ki bajaye
tumhare sabr par shak kare

हमेशा ज़िन्दगी इस तरह बशर करो के देखने वाले
तुम्हारे दर्द पर अफ़सोस की बजाए
तुम्हारे सब्र पर शक करे

takleef sms

aap ji ke saath jitna makhlus honge
wo aap ko itna hi zor daar thappadh maare ga
ke aap ki mukhlasi bhi hairaan rah jaye gi

Takleef Wali Shayari

Takleef Wali Shayari

आप जी के साथ जितना मख्लुस होंगे
वो आप को इतना हो जोर दार थप्पड़ मारे गा
के आप की मख्लुसी भी हैरान रह जाये गी

ghar ki is baar mukammal mein talashi lungga
gum chupa kar mere maa baap kahan rakhte the

घर की इस बार मुकम्मल में तसशी लूंगा गा
गम छुपा कर मेरे माँ बाप कहाँ रखते थे

takleef shayari facebook

kabhi kabhi to ghutan itni bad jaati hai ke
dil chahta hai kisi aysi jagha ja kar saans liya jaye
jahan kisi insaan ka naam wo nisaah na ho


शायरी पसन्द आये तो एक शेयर जरूर करे
  • 136
    Shares